मणिपुर में सुलगी हिंसा में कई लोगों की जान चली गई है. न्यूज एजेंसी पीटीआई ने अपनी रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से दावा किया कि मणिपुर अब तक 54 लोगों की जान जा चुकी है. पीटीआई ने बताया कि 54 मृतकों में 16 शव चुराचंदपुर जिला अस्पताल के मुर्दाघर में रखे गए हैं, जबकि 15 शव इम्फाल ईस्ट के जवाहरलाल नेहरू आयुर्विज्ञान संस्थान में हैं.इसके अलावा इंफाल पश्चिम के लाम्फेल में क्षेत्रीय चिकित्सा विज्ञान संस्थान ने 23 लोगों के मरने की पुष्टि की है. हालात पर काबू पान के लिए सेना और असम राइफल्स के करीब 10,000 सैनिकों को राज्य में तैनात किया गया है.(People died in manipur violence)

 

मणिपुर हिंसा में 54 लोगों की गई जान,हालात संभालने 10 हजार जवान उतरे सड़कों, जाने क्या है इस हिंसा का कारण
People died in manipur violence

Read more:छत्तीसगढ़ में सरकारी नौकरियों की बंपर भर्ती,जल संसाधन विभाग में 352 उप अभियंताओं के नियुक्ति आदेश जारी

 

 

आदिवासी एकता मार्च के दौरान सुलग उठा मणिपुर

मैतेई समुदाय की ओर से मणिपुर हाई कोर्ट में याचिका दायर की गई थी. इसमें अनुसूचित जनजाति का दर्जा देने का मुद्दा उठाया गया था. याचिका में दलील दी गई थी कि 1949 में मणिपुर भारत का हिस्सा बना था. उससे पहले तक मैतेई समुदाय को अनुसूचित जनजाति का दर्जा हासिल था, लेकिन बाद में उसे एसटी लिस्ट से बाहर कर दिया गया.(People died in manipur violence)

 

Read more:दीपक जोशी आज भोपाल में भाजपा का साथ छोड़कर थामेंगे कांग्रेस दामन, पीसीसी चीफ कमलनाथ दिलवाएंगे सदस्यता

 

शेड्यूल ट्राइब डिमांड कमेटी मणिपुर (STDCM) ने हाई कोर्ट में दलील दी कि 29 मई 2013 को केंद्र सरकार ने राज्य सरकार से मैतेई या मीतेई समुदाय से जुड़ी सामाजिक-आर्थिक जनगणना और एथनोग्राफिक रिपोर्ट्स मांगी थी, लेकिन राज्य सरकार ने कोई कदम नहीं उठाया.

 

Read more:जेएसपी समर्थित श्रीमंत झा ने एशियाई पैरा-आर्म रेसलिंग चैंपियनशिप में रजत पदक जीता

 

इसी पर मणिपुर हाई कोर्ट ने 20 अप्रैल को राज्य सरकार को आदेश दिया कि वो चार हफ्तों के अंदर मैतेई समुदाय की ओर से एसटी का दर्जा दिए जाने की मांग पर विचार करे.

 

Read more:बालको की मोर जल मोर माटी परियोजना से महुआ किसान आर्थिक रूप से लाभान्वित

 

इसके विरोध में तीन मई को ऑल ट्राइबल स्टूडेंट्स यूनियन मणिपुर (ATSUM) ने चुरचांदपुर के तोरबंग इलाके में ‘आदिवासी एकता मार्च’ निकाला था. इसी रैली के दौरान आदिवासियों और गैर-आदिवासियों के बीच हिंसक झड़प हो गई थी. इसके बाद हालात इतने बिगड़ गए कि कई जिलों में कर्फ्यू लगाना पड़ा गया. इंटरनेट और ब्रॉडबैंड बैन कर दिया गया. सेना और अर्ध सैनिक बलों की 54 टुकड़ियां तैनात कर दी गईं.

By Ankit

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ताज़ा खबरें