1937 की हिंडनबर्ग हादसा ज़ेपेलिन कंपनी द्वारा निर्मित दुनिया की सबसे बड़ी हवाई पोत। जो कि दुर्घटना का शिकार हो गया।यह दुनिया की सबसे प्रतिष्ठित घटनाओं में से एक है। इस दुर्घटना में 36 लोगों के जीवन को खत्म कर दिया और हवाई यात्रा के युग के अंत को चिह्नित किया। आग का कारण आज भी अज्ञात है, हालांकि माना जाता है कि यह स्थिर बिजली और हाइड्रोजन रिसाव के संयोजन से चिंगारी लगी थी। लेकिन क्या थी इस हादसे की पूरी कहानी ? आइए जानते हैं। लेकिन उससे पहले क्वीन ऑफ़ स्काई (QUEEN OF SKIES)  के नाम से मशहुर इस जर्मन शिप की कुछ खास बातें जानते हैं।(world largest airship Hindenburg)

 

CITYNEWSLIVE.IN Special : दुनिया की सबसे बड़ी एयरशिप "हिंडनबर्ग",मात्र 34 सेकेंड में जलकर हुई राख जाने क्या था इस सीप में खास, आपकी 63वीं उड़ान में हुई दुर्घटना
world largest airship Hindenburg

 

हिंडनबर्ग एयरशिप जिसे आसमान का टाइटेनिक भी कहा जाता था ।टाइटैनिक जहाज से लंबाई में यह सिर्फ 24 मीटर छोटा था।इस एयरशिप की लंबाई 803.8 फीट और वजन करीब 242 टन था। इसके मेटल फ्रेम में हाइड्रोजन गैस भरी थी। इस एयरशिप में सोने की व्यवस्था से लेकर एक लाइब्रेरी, डाइनिंग रूम और साथ ही एक शानदार लाउंज था। इसके बावजूद ये 80 मील प्रति घंटे की रफ्तार से चलने में सक्षम था।इस जहाज को नाजी जर्मनी की शांन भी माना जाता था। इसकी टिकट की बात करें तो उस जमाने में $700 का था। जोकि आज उसका मूल्य $7000 से भी ज्यादा है।(world largest airship Hindenburg)

 

 

3 मई 1937 समय 8:15 pm को फ्रैंकफर्ट एमे मेन से पहली उत्तरी अटलांटिक यात्रा के लिए (8:15 pm) मध्य यूरोपीय समय पर, 61 व्यक्तियों के दल के साथ रवाना हुआ, और इसकी कमान के अधीन था  कैप्टन प्रस, जिन्होंने बड़ी संख्या में हवाई पोत की पिछली यात्राओं की कमान संभाली थी; विमान में 36 यात्री भी सवार थे। इसके अलावा 108 किलोग्राम (239 पाउंड) मेल, 148 किलोग्राम (326 पाउंड) माल, और 879 किलोग्राम (1938 पाउंड) यात्रियों का 1 सामान, और कुत्तों वाली दो टोकरियाँ ले जाई गईं। लेकहर्स्ट में लैंडिंग के दौरान एयरशिप में    8,500 किलोग्राम इंधन बचा हुआ था। (18,739 पाउंड) ईंधन तेल, 3,000 किलोग्राम (6,614 पाउंड) चिकनाई वाला तेल और 21,900 किलोग्राम (48,280 पाउंड) पानी बचा था।

 

 

3 दिन के लंबे सफर के बाद यह जहाज अब लैंडिंग के लिए धीरे-धीरे नीचे उतरने लगता है।जहाज के लिए पाठ्यक्रम से समय निर्धारित किया गया था जो की 3:00 pm यानी कि दोपहर को  पहुंचना था।जहाज निर्धारित समय पर पहुंच तो गया था लेकिन लैंडिंग तब नहीं की गई थी क्योंकि मौसम खराब था तेज हवा चल रही थी और बादल छाए हुए थे।मौसम की स्थिति के बारे में एयरशिप लेकहर्स्ट एयरोलॉजिकल स्टेशन के साथ लगातार संपर्क में थे। फिर स्टारबोर्ड के विद्युत मोर्चे के साथ अटलांटिक सिटी की दिशा में एक दक्षिणपूर्वी दिशा पर आगे बढ़ते हुए, जहाज को लेकहर्स्ट से  शाम 5:12 पर एक रेडियो संदेश मिला, इस आशय का कि मौसम की स्थिति अब लैंडिंग के लिए उपयुक्त थी। नतीजतन, हवाई जहाज घूम गया और लेकहर्स्ट की ओर बढ़ गया, जिसके बाद आगे बढ़ते हुए  बारिश के क्षेत्र में प्रवेश किया। 18.08 (शाम 6:08 बजे) लेकहर्स्ट द्वारा यह सुझाव दिया गया कि लैंडिंग जल्द से जल्द की जाए। लैंडिंग होने ही वाली होती है की एक जोर की आवाज सुनाई देती है। और पूरा शिप आग की लपटों से घिर जाता है देखते ही देखते मात्र 34 सेकंड में यह सिप पूरा जलकर राख हो जाता है।

 

 

 

एक अमेरिकी रेडियो पत्रकार थे जिन्होंने हिंडनबर्ग आपदा को रिपोर्ट को प्रसारित करने के लिए रिकॉर्ड किया था। यह दुर्घटना उनकी आंखों के सामने हुई।

रिपोर्टर हर्ब मॉरिसन:”यह आग है और यह दुर्घटनाग्रस्त हो गया है! . . . यह दुनिया की सबसे भयानक तबाही है! ओह, यह दुर्घटनाग्रस्त हो रहा है। . . ओह, चार या पाँच सौ फीट आसमान में, और यह एक भयानक दुर्घटना है, देवियों और सज्जनों। वहाँ धुआं है, और वहाँ आग की लपटें हैं, अब, और फ्रेम जमीन पर गिर रहा है, मूरिंग मस्तूल तक नहीं। ओह, मानवता, और सभी यात्री यहाँ चिल्ला रहे हैं!

. . . देवियों और सज्जनों, मैं बात नहीं कर सकता। ईमानदारी से कहूं तो यह बस वहां पड़ा हुआ है, धुएं का ढेर, और हर कोई मुश्किल से सांस ले सकता है और बात कर सकता है। . . सच कहूं तो मैं मुश्किल से सांस ले पा रहा हूं। मैं अंदर कदम रखने जा रहा हूं जहां मैं इसे नहीं देख सकता। . . ।”

 

CITYNEWSLIVE.IN Special : दुनिया की सबसे बड़ी एयरशिप "हिंडनबर्ग",मात्र 34 सेकेंड में जलकर हुई राख जाने क्या था इस सीप में खास, आपकी 63वीं उड़ान में हुई दुर्घटना
world largest airship Hindenburg

 

 

इस जहाज में 97 लोग बैठे थे जिसमें कि 36 पैसेंजर थे और 61 क्रू मेंबर थे। इस हादसे के बाद 36 लोगों की मारे गए थे। कई लोगों ने जहाज खिड़की से कूदकर अपनी जान बचा ली थी। एक महिला ने भी  ‘अपने बेटों को सुरक्षा के लिए फेंक दिया।एयरशिप के पहले कप्तान अर्नस्ट लेहमन जो बोर्ड पर थे और ‘सलाहकार क्षमता’ में अभिनय कर रहे थे उन्होंने भी अपनी जान बचाने के लिए नियंत्रण कक्ष से छलांग लगा दी थी। लेकिन गंभीर रूप से जख्मी होने के कारण उनकी मृत हो गई।इस बीच एयरशिप के वर्तमान कप्तान मैक्स प्रस बच गए, हालांकि उन्हें भी ‘गंभीर चोट’ आई थी।नॉटिंघम इवनिंग पोस्ट ने उस महिला के कार्यों पर प्रकाश डाला जिसने अपने बेटों को सुरक्षित स्थान पर फेंक दिया था। वह श्रीमती हरमन डोनर थीं, और उनके पति, ‘सबसे बड़े अमेरिकी थोक रसायनज्ञों के मालिक’, दुर्घटना के बाद लापता थे।वह हिंडनबर्ग के भोजन कक्ष में अपने बेटों, वाल्टर, 9 वर्ष की आयु और वर्नर, 6 वर्ष की आयु के साथ थी, जब पहला विस्फोट हुआ।’जब हम जमीन से कुछ ही फीट दूर थे,’ उसने कहा ‘मैंने अपने बेटों को बाहर फेंक दिया

 

रिपोर्ट एयरशिप “हिंडनबर्ग”

दुर्घटना के तुरंत बाद जर्मन जांच आयोग टीम का गठन किया गया उन्होंने अपनी रिपोर्ट में यह बताया की

जहाज के पिछले भाग के ऊपरी भाग में एक ज्वलनशील हाइड्रोजन-वायु मिश्रण बन जाता है।इस मिश्रण के प्रज्वलन के लिए दो संभावनाएँ हैं:

 

1)हवाई पोत के उतरने के समय वायुमंडलीय विद्युत गड़बड़ी के कारण, पृथ्वी के पास विद्युत ढाल ऐसा था कि इसने पूरे जहाज को ग्राउंडिंग के बाद अपनी उच्चतम वृद्धि के स्थान पर, अर्थात् स्टर्न पर, ब्रश डिस्चार्ज करने के लिए प्रेरित किया। और इस तरह प्रज्वलन के लिए भी।

 

2)लैंडिंग रस्सियों को छोड़ने के बाद, बाहरी कवर कपड़े की कम चालकता के कारण एयरशिप के बाहरी कवर की सतह एयरशिप के ढांचे की तुलना में कम अच्छी तरह से जमी हुई हो गई। वायुमंडलीय क्षेत्र के तेजी से परिवर्तन पर, जो रात के झंझावात के दौरान नियम हैं और यह भी माना जाता है कि इस वर्तमान मामले में, जहाज के बाहरी हिस्से और ढांचे के बीच विद्युत संभावित अंतर हुआ। यदि ये धब्बे पर्याप्त रूप से नम थे, जो विशेष रूप से सेल 4 और 5 के क्षेत्र में एक वर्षा क्षेत्र के माध्यम से पिछले मार्ग के परिणाम के रूप में संभव था, तो उन अंतरों से एक चिंगारी द्वारा तनाव को बराबर किया जा सकता है, जो संभवतः हाइड्रोजन के प्रज्वलन का कारण बनता है। 

 

दो उद्धृत स्पष्टीकरणों में से एक (2) के तहत अधिक संभावित प्रतीत होता है।

 

 

इस हादसे को हुए करीब 85 साल हो गए हैं। हादसे के बाद लोगों में डर बैठ चुका था उन्हें पता चल गया था कि हाइड्रोजन में आग लगना कितना आसान है। इस हादसे के पीछे सबसे बड़ा कारण बताया जाता है। हाइड्रोजन की लीकेज होना और स्टैटिक इलेक्ट्रिसिटी उत्पन्न होना। 1940 तक आते-आते एयरशिप्स की रेपुटेशन काफी हद तक गिर चुकी थी। और दूसरी तरफ पैसेंजर एयरप्लेन काफी डेवलप हो जाते हैं। इन दोनों की स्पीड में भी काफी अंतर था। हालांकि एयरशिप का अब प्रमुख कार्गो और यात्री परिवहन के लिए उपयोग नहीं किया जाता है, फिर भी उनका उपयोग विज्ञापन, दर्शनीय स्थलों की यात्रा, निगरानी जैसे अन्य उद्देश्यों के लिए किया जाता है।

 

 

 

 

By Ankit

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ताज़ा खबरें