छत्तीसगढ़ 7 अगस्त 2022

यह खबर छत्तीसगढ़ के बालोद की है यहां अवैध शराब बिक्री और शराबियों की हरकतों से निपटने के लिए गांववालों ने नायाब तरीका निकाला. ऐसा तरीका, जिसकी चारों ओर तारीफ हो रही है.ये मामला घुमका गांव का है. छत्तीसगढ़ का यह पहला ऐसा गांव होगा, जहां शराबबंदी का फैसला खुद ग्रामीणों ने लिया है. बालोद जिला मुख्यालय से 10 किलोमीटर दूरी पर बसे इस गांव की आबादी 3 हजार है. लोग यहां हंसी-खुशी और अपनेपन के साथ जीते हैं. किसी को किसी से कोई शिकायत नहीं थी. लेकिन, शराब ने इस गांव का माहौल खराब कर दिया. इससे वहां महिलाओं और बच्चों पर असर होने लगा.लेकिन, अब यहां शराब के कारण विवाद की स्थिति नहीं होगी. क्योंकि, ग्रामीणों ने अब ऐसा फैसला लिया है कि किसी को विवाद करने से पहले सैकड़ों दफा सोचना पड़ेगा.(Drunkenness used to spoil )

शराब पीकर माहौल बिगड़ते थे शराबी ,,, इनसे निपटने के लिए गांव वालों ने निकाला है ऐसा तरीका
शराब पीकर माहौल बिगड़ते थे शराबी ,,, इनसे निपटने के लिए गांव वालों ने निकाला है ऐसा तरीका

 

 

Read more: http://कलिंगा विश्वविद्यालय परिसर में 2 दिवसीय टीकाकरण शिविर (बूस्टर डोज) का आयोजन सम्पन्न

 

 

दरअसल 2 दिन पहले एक युवक ने अवैध शराब बेचने वालों के खिलाफ आवाज उठाई बकायदा उसकी थाने में शिकायत भी की उसके बाद अवैध शराब बेचने वाले ने बौखलाहट के चलते शिकायतकर्ता के घर जाकर उसे डराया धमकाया।उसके तुरंत बाद शिकायतकर्ता ने यह जानकारी गांव के जनप्रतिनिधित्व को दी  तभी देर रात गांव वालों ने इस विषय पर आपातकालीन बैठक का फैसला लिया।(Drunkenness used to spoil)

 

 

Read more:http://राजधानी रायपुर में गोली चलने की खबर, एक घायल,आरोपी फरार …विस्तार से जाने कैसे हुआ ये घटना

 

 

 

गुरुवार की सुबह 7:00 बजे यह मुनादी कराई गई कि हर घर के एक महिला एक पुरुष 11:00 बजे एक गांव के मुख्य चौक पर इकट्ठा होंगे इस बीच गांव को भी बंद कर दिया गया 11:00 बजे गांव के सभी लोग एकत्रित हुए और बैठक में महिलाओं को आगे रखा गया  पंचायत के जनप्रतिनिधियों ने वहां मौजूद सभी लोगों से अवैध रूप से शराब बेचने वाले लोगों को आगे आने को कहा. उसके बाद 5 लोग स्वयं आगे आए और अवैध रूप से शराब बेचने की बात कबूल की.

 

 

Read more:http://प्रतापपुर थाना के नए थाना प्रभारी लक्ष्मण सिंह धुर्वे ने पदभार ग्रहण किया

 

 

उसके बाद अवैध रूप से शराब बेचने वाले उन 5 लोगों से  दो दो  हजार का  अर्थदंड वसूला गया।इनमें से 7 लोगों के नाम थे, जिन्हें सार्वजनिक किया गया. सातों से 5-5 हजार रुपये जुर्माना वसूला गया.  उन सभी से ग्रामीणों ने  दोबारा शराब नहीं बेचने का भरोसा भी दिलाया.एक व्यक्ति जो शराब पीकर गाली-गलौज करता था उससे महिलाओं ने 20 हजार रुपए अर्थदंड वसूल किया. इस तरह महिलाओं ने गांव के फंड में 65 हजार रुपये इकट्ठा कर लिए.

 

गांव वालों ने लिए यह फैसले

इकट्ठा हुए पैसे से अब गांव में सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे. ताकि, हर जगह और हर शख्स पर नजर रहे. इससे अवैध रूप से शराब बेचने और गाली-गलौज करने वालों पर भी नजर रखी जा सकेगी. अब गांववालों ने फैसला किया है कि अगर कोई शराब पीकर हुड़दंग करेगा तो उस पर 20 हजार रुपये का दंड लगाया जाएगा. अवैध रूप से शराब बेचने वाले पर 51 हजार रुपये जुर्माना लिया, साथ ही उससे पूरा गांव कोई वास्ता नहीं रखेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ताज़ा खबरें