इस समय चैत्र नवरात्रि का पावन पर्व होता है, नवरात्रि में कन्या पूजन का विशेष महत्व होता है। इन नौ दिनों तक भक्त नौ कन्याओं को देवी के रूप में पूजते हैं और उन्हें भोजन कराते हैं। इसके बाद व्रत तोड़ा जाता है। नवरात्रि में कन्या पूजन की विधि सप्तमी से शुरू होती है। अष्टमी और नवमी के दिन पूरे विधि-विधान से कन्या पूजन किया जाता है। दुर्गाष्टमी को कन्या पूजन के लिए सबसे शुभ दिन माना जाता है।(Chaitra Navratri kanya pujan)

 

 

Read more:MP : विंध्य क्षेत्र को मिली एक नई पहचान,सुंदरजा आम और मुरैना को मिला जीआई टैग,CM ने दी बधाई

 

 

कन्या पूजन के एक दिन पूर्व सभी कन्याओं को पूरे सम्मान के साथ आमंत्रित करें। जब सभी कन्याएं घर आ जाएं तो उनका फूलों की वर्षा से स्वागत करें। फिर उनके चरण दूध या जल से धो लें। फिर इस पानी को सिर पर लगाएं। सभी कन्याओं को स्वच्छ आसन पर बिठाएं। मां जगदंबा की पूजा के बाद सभी कन्याओं को भोजन कराएं। फिर अपने सामर्थ्य के अनुसार कन्याओं को दान-दक्षिणा दें। उन्हें दान करें। ध्यान रहे कि 9 लड़कियां हों और उनके साथ एक लड़का भी हो।(Chaitra Navratri kanya pujan)

 

Read more:वर्ल्ड ब्राह्मण फेडरेशन छ.ग. एवं सर्व युवा ब्राह्मण परिषद छ.ग. द्वारा 26 मार्च को महिला शक्तियों को महिला शिखर सम्मान से किया गया सम्मानित

 

हर साल की कन्याओं का होता है अलग महत्व

हर कक्षा की लड़कियों का अपना मतलब होता है। उदाहरण के लिए दो वर्ष की कन्या का पूजन करने से घर में कभी दरिद्रता नहीं आती है।

तीन वर्ष की कन्या को भोजन कराने से घर में धन की वृद्धि होती है।

चार वर्ष की कन्याओं को भोजन कराने से सभी कार्यों में प्रगति होती है।

पांच वर्ष की कन्याओं को भोजन कराने से व्यक्ति स्वस्थ रहता है।

6, 7 और 8 वर्ष की कन्याओं को भोजन कराने से राजयोग की प्राप्ति होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ताज़ा खबरें