छत्तीसगढ़ का कबीरधाम देश का पहला जिला बन गया है जहां मोतियाबिंद के कारण दृष्टिहीन हो चुके चिन्हांकित सभी लोगों के आंखों की रोशनी लौटाई जा चुकी है। सितम्बर-2021 में वहां दोनों आंखों में मोतियाबिंद के कारण दृष्टिहीन 1128 और एक आंख में मोतियाबिंद दृष्टिहीनता वाले 2124 व्यक्ति चिन्हांकित किए गए थे।स्वास्थ्य विभाग ने बीते अगस्त माह में इन सभी लोगों के आपरेशन का लक्ष्य हासिल कर लिया है।(Kabirdham became the first district)

 

 

Read more:दक्षिण भारत के दो दिवसीय दौरे पर पीएम नरेंद्र मोदी ने देश के पांचवी वंदे मातरम ट्रेन को दिखाई हरी झंडी

 

 

 

वीडियो कान्फ्रेंस के माध्यम से हुई “राष्ट्रीय नेत्र ज्योति अभियान” की समीक्षा बैठक में भारत सरकार के अधिकारियों ने इस उपलब्धि पर छत्तीसगढ़ की सराहना की है।राष्ट्रीय अंधत्व निवारण कार्यक्रम के राज्य नोडल अधिकारी डा. सुभाष मिश्रा ने बताया कि साल 2022-23 में प्रदेश में अब तक मोतियाबिंद की वजह से दृष्टिहीन 59 हजार 379 लोगों की सफल सर्जरी की जा चुकी है।(Kabirdham became the first district)

 

 

 

 

Read more:जाने सीहोर वाले प्रदीप मिश्रा ने धर्मांतरण को लेकर क्या कहा,धन के जोर पर हो रहा धर्म परिवर्तन

 

 

 

 

 

इनमें से 19 हजार 705 आपरेशन शासकीय अस्पतालों में, 14 हजार 630 एनजीओ के माध्यम से और 25 हजार 044 आपरेशन निजी अस्पतालों में किए गए हैं। चालू वित्तीय वर्ष के लिए निर्धारित कुल आपरेशन के लक्ष्य का 48 प्रतिशत अक्टूबर माह तक हासिल किया जा चुका है। प्रदेश में इस साल मोतियाबिंद के कारण दृष्टिहीन कुल एक लाख 25 हजार लोगों के आपरेशन का लक्ष्य है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ताज़ा खबरें