सीएम भूपेश बघेल ने कहा कि हमारे समाज में त्याग का बड़ा महत्त्व है। इसी कड़ी में शराबबंदी के लिए सभी समाज को मिलकर संकल्प लेना होगा कि कोई अब शराब नहीं पिएगा।(Chief Minister Bhupesh Baghel)

 

Read more:रायपुरा स्थित विप्र नगर सेंट्रल : वरिष्ठ नागरिक और महिलाएं द्वारा विधिवत लगाया गया साइन बोर्ड

 

 

 

 

सीएम बघेल ने लॉकडाउन का उल्लेख करते हुए कहा कि इस दौरान लोगों ने शराब (Prohibition) नहीं पिया, यही मौका था की शराब को त्यागा जा सकता था क्युंकी शराब सामाजिक बुराई है। सीएम बघेल ने महिलाओं में जोश भरते हुए कहा कि प्रदेश की नारी शराब का सेवन करने वालों को यदि घर में घुसने ही न दें तो यहीं से शराबबंदी का आगाज हो जायेगा। उन्होंने कहा कि सबकी सहमति से ही प्रदेश में शराबबंदी लागू करेंगे। उन्होंने कहा कि शराबबंदी ऐसी होनी चाहिए कि सबकी सहमति होना चाहिए। शराबबंदी होना चाहिए, लेकिन एक झटके में नहीं होना चाहिए। उन्होंने कहा कि ऐसा कोई काम नहीं है, जो सब मिलकर नहीं कर सकते,इसके लिए इच्छाशक्ति की जरुरत है।(Chief Minister Bhupesh Baghel)

 

 

Read more:मॉर्निंग वॉक कर घर लौटी बुजुर्ग महिला:अपने ही कमरे में खुद पर केरोसिन डालकर लगा ली आग

 

 

 

उन्होंने कहा कि लॉकडाउन में उड़ीसा, महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश और अन्य राज्यों से लोग छुपते छुपाते शराब लेकर पहुंचे। कई लोग सेनेटाइजर को पी लिया,तो किसी ने होम्योपैथी का लिक्विड पीकर ही नशा करते देखे गए हैं। जब तक सामाजिक लोग संकल्प नहीं लेंगे तब तक इस बुराई को दूर किया जाना मुश्किल है। उन्होंने जोर देते हुए कहा कि सभी समाज के लोग संकल्प पारित कर ले कि कोई शराब का सेवन नहीं करेगा और ना ही किसी को करने देगा। उन्होंने कहा कि मुझे बंद करने में कोई तकलीफ नहीं है, लेकिन समाज को भी बीड़ा उठाना पड़ेगा, अकेले मुख्यमंत्री या शासन नहीं कर सकता। सभी समाज में जनजागृति जरूरी है तभी जाकर प्रदेशभर में पूर्ण शराबबंदी हो सकेगी।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ताज़ा खबरें